विद्यार्थी जीवन में समय का महत्व

0
2439

 

जब समय के महत्व की बात आती है तो हम यह समझ जाते हैं कि बात किसी निश्चित व्यक्ति के लिए नहीं बल्कि हर एक मनुष्य के लिए की जा रही है अर्थात् समय का महत्व सभी के लिए उतना ही है जितना प्रत्येक व्यक्ति के लिए भोजन। यहां किसी व्यक्ति की गरीबी – अमीरी कोई संबंध नहीं रखती। इस बात को हम अच्छे से समझते हैं कि मनुष्य जीवन में समय का कितना महत्व है और यह बात हमें जीवन में बहुत बार सिखाई भी जाती है कि समय अनमोल है, इसलिए समय का पूर्ण और सही इस्तेमाल कीजिये।
लेकिन अब यदि बात की जाये एक विद्यार्थी जीवन की तो उसमें समय का एक – एक क्षण बहुत कीमती होता है तो ऐसे में प्रत्येक विद्यार्थी के लिए बहुत जरूरी है समय के महत्व को समझना और समय के प्रत्येक क्षण का सदुपयोग करना। विद्यार्थी को अपने जीवन में दिन के प्रत्येक हिस्से को एक सही कड़ी में पिरोना बेहद ज़रूरी होता है अर्थात् अपनी दिनचर्या को सही ढंग से व्यवस्थित करना।
समय निरन्तर प्रगतिशील है और यह उन्हीं लोगों से दोस्ती करता है जो समय के साथ चलते हैं समय की इज्जत करते हैं। समय किसी का भी क्षण भर भी इंतजार नहीं करता और ना ही इसे अमीर से अमीर व्यक्ति भी पैसे के बल पर रोक सकता है। अब यदि बात करें समय के साथ चलने की तो इसका साफ – साफ यही मतलब होगा कि हम अपने समय के प्रत्येक क्षण का महत्व समझें और उसका सदुपयोग करें। यदि इसके विपरीत समय के साथ साथ चलने का मतलब पहनावे,खान-पान,रहन-सहन,और पैसे से माना जाता है तो शायद वह हमारी गलत फहमी होगी क्योंकि ऐसा करके हम यह नहीं कह सकते कि हम समय का पूर्ण उपयोग कर रहे हैं बल्कि यह तो हमारा केवल ऊपरी मिजाज बदलता दिख रहा है।
इसलिए हमें अपने विद्यार्थी जीवन में समय के साथ चलने के लिए सर्वप्रथम इसके सदुपयोग करने के तौर तरीकों को समझना होगा, हमें अपने प्रत्येक कार्य को सही समय पर करने की एक निश्चित समय – सीमा तय करनी होगी। एक छोटे से उदाहरण के रूप में समझें तो हमारे विद्यार्थी जीवन में आमतौर पर ऐसा होता है कि जब हम पढ़ाई, परीक्षा की तैयारी करतें हैं तो एक बात दिमाग में आ ही जाती है कि अभी तो बहुत समय पड़ा है, बस इतना सोचते ही हम अपनी पढ़ाई को कल पर टाल देते हैं और यह हर रोज चलता रहता है। ऐसे में एक दिन ऐसा आता है कि परीक्षा पास करने के लिए पढ़ना महत्वपूर्ण तो होता ही है लेकिन ‘अविलंब’ (तुरंत करने योग्य) भी हो जाता है। जिससे हमारे दिमाग पर बोझ बढ़ जाता है और केवल एक प्रश्न कि क्या किया जाए अर्थात् कुछ नहीं सूझता। अब सोचिये यदि हम पहले दिन से अपने काम को कल पर नहीं टालते तो हमारा पढ़ाई और परीक्षा की तैयारी का कार्य केवल महत्वपूर्ण ही रहता न कि अविलंब हो जाता। जिससे हमारे दिमाग पर पढ़ाई संबंधी बोझ परीक्षा के समय भी नहीं बढ़ता क्यों कि हम अपनी सम्पूर्ण तैयारी पहले से करते आ रहे हैं।
इसलिए हमें अपने विद्यार्थी जीवन में समय कितना महत्वपूर्ण है इस बात को नजर अंदाज नहीं करना चाहिए। और आज यदि हम समय की कद्र करते हैं समय का सदुपयोग करते हैं तो आने वाले कल में हमारे पास समय,पैसा और इज्जत सब कुछ होगा। क्यों कि समय सिर्फ अकेला नहीं बदलता बल्कि जो लोग समय के साथ चलते हैं समय उन्हें भी बदल देता है अर्थात महान बना देता है।
प्रिय विद्यार्थियो आपको हमारा यह लेख कैसा लगा comment द्वारा हमें लिखकर भेजें।
साथ ही इस लेख को share जरूर करें।

LEAVE A REPLY