विद्यार्थी अपना आत्मविश्वास कैसे बढ़ायें

4
617

प्रिय विद्यार्थियो हम इस लेख में पढ़ेंगे कि हम अपने विद्यार्थी जीवन में self confidence को कैसे बनाये रख सकते हैं और अपने गिरते आत्मविश्वास के स्तर को कैसे बढ़ा सकते हैं। प्रत्येक व्यक्ति इस बात को समझ सकता है कि जीवन में सफलता अर्जित करने के लिए मजबूत self confidence का होना कितना जरूरी है।

Self confidence is the power to transform hard work in to success. आत्मविश्वास वह शक्ति है जो मेहनत को सफलता में बदल देता है । आपने देखा होगा बड़े – बड़े सितारे,सिंगर,खिलाड़ी,राजनेता और बिजनेसमेन जिनमें आत्मविश्वास का गुण सितारे की तरह चमकता साफ दिखाई देता है यही कारण है उनकी रातोंरात तरक्की का, और जिनके सफलता भी पांव चूमती है। इसीलिए तो कहते हैं आदमी तन से कमजोर भले ही हो लेकिन उसको स्वयं पर भरोसा मजबूत होना चाहिए । क्यों कि without confidence no success. लेकिन यहां एक गौर करने वाली बात यह भी है कि हमें अपने आप पर भरोसा होते हुए भी कई बार किन्हीं कारणों से वह confidence गिरता चला जाता है । और व्यक्ति मेहनती और बुद्धिमान होने के बावजूद भी सफलता प्राप्त नहीं कर पाता और थक हार कर बैठ जाता है:- “उफ्फ अब मैं कुछ नहीं कर सकता।” परन्तु यह गलत मानसिकता है बल्कि हम विपरीत परिस्थितियों में भी अपने confidence को बनाए रख सकते हैं, जरूरत है तो केवल कुछ बातों का ध्यान रखने की। आइए जानते हैं self confidence को increase करने की कुछ बातें –

 

नकारात्मक विचारों से बचें:-

प्रिय विद्यार्थियो एक बात बिल्कुल साफ है जब तक हम किसी भी तरह के नकारात्मक भाव या विचारों से लुप्त हैं तो हमारा confidence बिल्कुल कमजोर(nil) होगा। क्योंकि यह निश्चित है कि जब भी हम अपने बारे में नकारात्मक सोचेंगे, अपने अतीत में मिली असफलता को दिमागी बोझ बनायेंगे तो हमारा नजरिया दूसरों के प्रति भी बुरा ही बन जाएगा। ऐसा करके हम अपने साथियों और दूसरे लोगों में भी बुराइयां ही देखेंगे ओर प्रत्येक मोड़ पर दूसरों की कमजोरियों को पकड़ने की कोशिश करेंगे। धीरे-धीरे यह सब हमारी आदत बन जायेगी जिससे हमें दूसरों की असफलता और बुराई करने में आनंद मिलने लगेगा। जो कि प्रत्येक व्यक्ति की सफलता और   आत्मविश्वास का पतन कर देता है । इसलिए बेहतर रहेगा कि हम सकारात्मक सोच वाले मनुष्य बनें।

 

उचित वस्त्रों का चयन:-

आपने कभी गौर किया हो तो कि जब भी हम किसी party या function में जाने के लिए अच्छे वस्त्र पहनते हैं तो वहां हमारी thinking कुछ अलग तरह की होती है अर्थात् अच्छी ड्रेसिंग सेंस के साथ हम बड़ा ही ऊर्जावान और तरोताजा महसूस करते हैं । इसलिए यह अधिक बेहतर है कि महंगे और अधिक कपड़े खरीदकर पहनने की बजाय ऐसी dressing quality रखी जाए जो हमारी personality के हिसाब से उचित हो । जिससे लोग प्रशंसा करे और हमारे आत्मविश्वास में वृद्धि हो।

 

बहिर्मुखी(extrovert)बनें:-

क्या आप अपने प्रत्येक फैसले को अपने मन में ही दबाकर रख लेते हैं, इतना ही नहीं आप अधिक लोगों के बीच में बैठने,बोलने से घबराते हैं तो शायद आप अंतर्मुखी(introvert) रवैये के इंसान है। देखिए अंतर्मुखी होना कोई बुरी बात नहीं परन्तु हम इतना जरूर कह सकते हैं कि अंतर्मुखी व्यक्ति उस (बहिर्मुखी)व्यक्ति से काफी पीछे है जो व्यक्ति अपनी बात को खुले तौर पर लोगों के बीच रख देता है, बिना कोई संकोच किये अपने विचार खुले रूप में प्रकट कर देता है। ऐसे व्यक्ति जल्द ही अन्य लोगों से अपने विचार मिला लेने में सक्षम होते हैं ,जिससे इनकी दोस्ती का दायरा भी काफी बड़ा होता है। इसलिए ये व्यक्ति स्वयं को हमेशा दूसरों की नजरों में बनाये रखना चाहते हैं , जिससे इनका हौसला और आत्मविश्वास सदैव उच्च स्तर पर बना रहता है।

 

खुशदिल इंसान बने:-

सदा खुशी से जीने वाले इंसान को कौन पसंद नहीं करता। जिस व्यक्ति का शांत और मिलनसार प्रवृत्ति का स्वभाव हो उससे दोस्ती करना कौन पसंद नहीं करता। इस गुण से परिपूर्ण व्यक्ति को जिन्दगी में अच्छे दोस्तों एवं प्रशंसकों की कोई कमी नहीं होती। खुशदिल इंसान हमेशा दुख दर्द को भुलाकर आगे बढ़ता जाता है। जहां उसके confidence का स्तर हमेशा श्रेष्ठ बना रहता है। विपरीत इसके कि depression में रहने वाला व्यक्ति अपने आत्मविश्वास को खो देता है जिसे केवल चिंता ही हाथ लगती है।

 

क्रोध,ईर्ष्या,झूठ से बचें:-

क्रोध, ईर्ष्या और झूठ ये सब मनुष्य जीवन का पतन है।क्रोध करने वाला व्यक्ति अपने आत्मविश्वास को ही नहीं बल्कि अपने इंसानियत रूपी गुण को भी खो देता है। और उसके पास केवल मात्र दूसरों के लिए जलन, ईर्ष्या और बुराइयां ही बचती है। ऐसे स्वभाव वाला व्यक्ति अपनी सफलता के प्रयास छोड़कर सफलता अर्जित करने वाले लोगों से ईर्ष्या करता है जिससे वह अपने आत्मविश्वास को बिल्कुल खो चुका होता है।

 

प्रिय पाठको इस लेख में कोई भी ऐसी बात नहीं बताई गई है कि जिससे आप अनजान हो। लेकिन फिर भी इस लेख द्वारा आपका ध्यान उन बातों की ओर खींचने की कोशिश की गई जिन्हें हम जरूरी होते हुए भी अनदेखा (ignore) कर देते हैं। इसलिए यह लेख आपको काफी हद तक प्रेरित करने में लाभदायक सिद्ध होगा।
आपको हमारा यह लेख कैसा लगा हमें comment box में अवश्य लिखकर बतायें। आपकी राय हमें ओर बेहतर लिखने में मदद करेगी। साथ ही इस लेख को अपने दोस्तों में share करना ना भूलें।

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY